Gandhi vadh aur main: samsodhita evam parivardhita naya samskarana

By: Godse, Gopal
Material type: TextTextPublisher: New Delhi Hind Pocket Books 2015Description: 318 p.ISBN: 9788121620567Subject(s): Trials - Assassination | Politics and government | AssassinationDDC classification: H 954.035 Summary: ‘गांधी-वध और मैं’ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नथूराम गोडसे के भाई और इस षड्यंत्र में शामिल तथा उसके लिए कारावास भोगने वाले गोपाल गोडसे की कलम से उनका पक्ष प्रस्तुत करने वाली पुस्तक है। यह नथूराम गोडसे की जीवनी भी है, गोपाल गोडसे की आत्मकथा भी है और साथ ही उनके संस्मरण भी। गांधीजी की हत्या से जुड़ी तमाम रोमांचक बातें इस पुस्तक में दी गई हैं, जिन्हें पढ़कर गांधीजी से घृणा भी की जा सकती है और इसे इस रूप में भी देखा जा सकता है कि...प्रार्थना के लिए जाते समय गोडसे की तीन गोलियों ने गांधीजी को नहीं रोका...बल्कि गांधीजी ने ही उन तीन गोलियों को रोका, ताकि वे और न फैलें, किसी और पर न पड़ें और घृणा का उसी क्षण अंत हो जाए! https://www.amazon.in/Gandhi-Vadh-Aur-Main-Sah-Aaropee/dp/8121620562
List(s) this item appears in: Books on Mahatma Gandhi_Recently added | Books on Mahatma Gandhi_All
Tags from this library: No tags from this library for this title. Log in to add tags.
    Average rating: 0.0 (0 votes)
Item type Current location Item location Collection Call number Status Date due Barcode
Hindi Books Vikram Sarabhai Library
General Stacks
Slot 2586 (3 Floor, East Wing) Non-fiction H 954.035 G6G2 (Browse shelf) Available 195266

‘गांधी-वध और मैं’ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नथूराम गोडसे के भाई और इस षड्यंत्र में शामिल तथा उसके लिए कारावास भोगने वाले गोपाल गोडसे की कलम से उनका पक्ष प्रस्तुत करने वाली पुस्तक है। यह नथूराम गोडसे की जीवनी भी है, गोपाल गोडसे की आत्मकथा भी है और साथ ही उनके संस्मरण भी। गांधीजी की हत्या से जुड़ी तमाम रोमांचक बातें इस पुस्तक में दी गई हैं, जिन्हें पढ़कर गांधीजी से घृणा भी की जा सकती है और इसे इस रूप में भी देखा जा सकता है कि...प्रार्थना के लिए जाते समय गोडसे की तीन गोलियों ने गांधीजी को नहीं रोका...बल्कि गांधीजी ने ही उन तीन गोलियों को रोका, ताकि वे और न फैलें, किसी और पर न पड़ें और घृणा का उसी क्षण अंत हो जाए!

https://www.amazon.in/Gandhi-Vadh-Aur-Main-Sah-Aaropee/dp/8121620562

There are no comments for this item.

to post a comment.

Powered by Koha